Google BERT Algorithm Kya Hai | BERT Algorithm काम कैसे करता है?

Rate this post

Google BERT Algorithm Kya Hai, में हमेशा कई नए नए Update आते रहते हैं। परंतु पिछले कुछ सालों में Google Algorithm का सबसे बड़ा Update Google BERT Algorithm है। यह Algorithm गूगल द्वारा 2019 में ही शुरू किया गया है और हाल ही में यह Algorithm लगभग सभी जगह लागू हो गया है। इसलिए Bloggers यह जानना चाहते हैं कि Google Bert Algorithm System क्या है, और यह किस तरह से काम करता है। इसके बारे में आपको सारी जानकारी अच्छे से देने वाले है।

तो आइए आज के इस लेख में हम इसी विषय पर चर्चा करते हैं और जानते हैं कि Google Bert Algorithm के बारे में और साथ ही हम यह भी जानेंगे कि यह हमारे ब्लॉग के लिए यह कैसे फायदेमंद हो सकता है?

Google BERTA algorithm Full form

BERT का फुल फॉर्म बाईडायरेक्शनल इनकोडर रिप्रेजेंटेशन फ्रॉम ट्रांसफॉर्मर्स(Bidirectional Encoder Representation from Transformers) है। चलिए इस फुल फॉर्म के हर एक Word का मतलब भी समझते हैं।

Bidirectional शब्द का अर्थ है कि गूगल अब किसी भी वाक्य पूरे अर्थ को समझने में सक्षम होगा। यानी कि हम किसी भी वाक्य को तब समझते हैं जब हम वाक्य में लिखे गए शब्द के आगे और पीछे वाले शब्दों को भी पढ़ते हैं। इसलिए गूगल के इस नए Algorithm में अब गूगल सर्च इंजन भी किसी भी वाक्य को सही तरह से पढ़कर उसका सही अर्थ समझने में सक्षम होगा।

Encoder Representation from Transformers का मतलब है कि गूगल सर्च इंजन अब लिखे गए किसी भी वाक्य में सभी शब्दों के आपस के संबंध को पहचान सकता है। दरअसल Neural language Processing में Transformers एक Mechanism, है जोकि search किए गए किसी भी वाक्य का सही मतलब इनकोड कर पाएगा। यानी समझ पाएगा।

तो अगर अब हम दोनों ही अर्थों को मिला दे तो इसका अर्थ क्या होगा कि गूगल सर्च इंजन ट्रांसफॉमर्स के माध्यम से किसी भी वाक्य को दोनों तरफ से पढ़कर जो भी समझा है उसे define करेगा।

Broken Link Kya Hai

50+ Best Hindi Blogs List 2023

गूगल बर्ट एल्गॉरिथ्म क्या है? Google BERT Algorithm Kya Hai?

तो अभी हमने BERT का फुल फॉर्म का अर्थ समझ लिया है चलिए अब हम इस Algorithm को विस्तार पूर्वक समझते हैं।

गूगल सर्च इंजन को और बेहतर बनाने के लिए यह BERT Algorithm की शुरुआत की गई है। यह एक Neural Network based Model है जिसे Humans के न्यूरॉन्स की थ्योरी से प्रेरित होकर डिजाइन किया गया है और इसका नाम Neural Network भी दिया गया है।

Google Bert Algorithm की शुरुआत अक्टूबर 2019 में की गई थी। और उस समय यह केवल इंग्लिश लैंग्वेज के साथ ही कार्य कर रहा था। परंतु आज यह लगभग 60 से 70 लैंग्वेज में काम करता है। और ऐसे 6 लैंग्वेज हैं जिनके साथ यह सबसे ज्यादा कार्य करता है उसमें हिंदी भी शामिल है।

गूगल BERTAlgorithm के माध्यम से गूगल यूजर द्वारा सर्च की जा रही क्वेरी को ज्यादा बेहतर तरीके से समझ पाने में सक्षम होगा। क्योंकि BERTएक ऐसा नेचुरल लैंग्वेज प्रोसेसिंग फ्रेमवर्क है जो गूगल को यूजर द्वारा सर्च किए जा रहे query को एक इंसान की तरह समझने में मदद करता है।

उदाहरण के लिए,

अगर किसी यूज़र ने सर्च किया कि “सरकारी जॉब की तैयारी कैसे करें” तो इसका अर्थ यह है कि वह तैयारी करने से संबंधित किसी टिप्स की तलाश कर रहा है। वह यूजर या नहीं जानना चाहता कि सरकारी जॉब क्या है? तो ऐसे में यह WordAlgorithmuser के भावनाओं को समझ कर उसे सही वेबसाइट तक पहुंचाने का प्रयास करेगा।

गूगल बर्ट कैसे काम करता है?

गूगल बर्ट Bidirectional system के आधार पर कार्य करता है। जैसा कि हमने Bidirectional अर्थ समझा कि बाईडायरेक्शनलवह होता है जब हम किसी भी सिस्टम को Right और left दोनों साइड से पढ़ते हैं।

अब वाक्य में Left side और Right side से पढ़ने का अर्थ यह है कि किसी एक sentenceके में दिए गए शब्द के Left और Right दोनों तरफ के शब्दों को पढ़कर और समझ कर इस वाक्य का सही मतलब निकाला।

यानी कि गूगल BERT सबसे पहले वाक्य में दिए गए मेन keyword को पढ़ेगा जैसे –“गूगल BERTAlgorithm क्या है?”तो अब यहां पर BERT के कई फुल फॉर्म हो सकते हैं लेकिन गूगल BERT शब्द के आगे और पीछे दिए गए शब्दों को पढ़कर उसकी सही भावना को समझ पाएगा और आपको सही रिजल्ट दिखा पाएगा। तो, इस तरह पहले गूगल Short-tail keywords को समझने में तो अच्छा था परंतु अक्सर गूगल long-tail keywords को नहीं समझ पाता था, जिसके कारण Users को सही वेबसाइट के बारे में जानकारियां नहीं मिल पाती थी।

गूगल बर्ट हमारी वेबसाइट के लिए कैसे बेहतर है?

तो, जैसा कि अभी हमने गूगल BERT को विस्तार पूर्वक समझ लिया है। तो यहां पर शायद आप भी समझ पा रहे होंगे कि यह आपकी वेबसाइट के लिए किस तरह से बेहतर साबित होने वाला है। तो चलिए हम गूगल BERT के फायदों को समझ लेते हैं?

गूगल BERTAlgorithm के माध्यम से आप की वेबसाइट को ज्यादा ट्रैफिक मिलेगा। यानी कि आपकी Traffic Quantity बढ़ेगी। ऐसा इसलिए होगा क्योंकि जब गूगल सही ढंग से Keywords की भावना और मतलब समझ पाएगा तो वह Users को सही वेबसाइट्स तक ले जाएगा जिसमें आपकी वेबसाइट भी शामिल हो सकती है।

इस Algorithm के माध्यम से आपकी Traffic Quality भी सबसे अच्छी होगी। क्योंकि अगर Users को अपने Keyword से रिलेटेड सही उत्तर मिलेगा तो कोई भी यूजर हमारी वेबसाइट पर ज्यादा देर तक टिका रहेगा और इससे ट्रैफिक की क्वालिटी ज्यादा बढ़ेगी।

50+ तरीके Blog Ka Traffic Kaise Badhaye

Blogging Me Kitna Paisa Milta Hai

गूगल BERT Algorithm के लिए वेबसाइट में क्या बदलाव

तो हम आपको यह बता दे कि गूगल BertAlgorithm केवल सर्च इंजन के लिए ही लाया गया है। इसमें हमें हमारी वेबसाइट पर कोई भी बदलाव नहीं करने हैं। हमें केवल अपने वेबसाइट पर Useful contents ही डालने हैं ताकि सही ट्रैफिक हमारी वेबसाइट पर पहुंच सके।

गूगल BERT Algorithm तब काम करेगा, जब Users अपने Keywords को गूगल में सर्च कर रहे होंगे। तब यह Algorithm Users को उन वेबसाइट पर लेकर जाएगा जहां पर उन्हें अपने सर्च किए गए keyword का सही उत्तर मिल पाए।

FAQs :

Q. पेज रैंक क्या होता है ?

Ans. यह एक गूगल का ही एक Algorithm होता है, यह वैबसाइट का measure करता है।

Q. क्या गूगल के एल्गोरिथ्म SEO में महत्व रखते है ?

Ans. जी हाँ Algorithm में SEO का बहुत ही ज्यादा महत्व होता है। आप Algorithm के खिलाफ काम नहीं कर सकते।

निष्कर्ष

आज की हमारी इस पोस्ट में हमने आपको Google BERT Algorithm Kya Hai और Google BERT Algorithm Update के बारे मे आपको सारी जानकारी अच्छे से बताई है, आप इस जानकारी को पढ़ कर अपनी पोस्ट को सही से सेट कर ले, और अपनी वैबसाइट को अच्छे से ग्रो करे। अगर यह पोस्ट पढ़ने के बाद आपको कोई भी जानकारी अच्छे से समझ नहीं आती है, तो आप हमे कमेंट करके कुछ सकते है।

अगर आपको हमारी यह पोस्ट पसंद आती है, तो आप हमारी इस पोस्ट को अपने दोस्तो के साथ सोश्ल मीडिया पर जरूर शेयर कर दे, ताकि उनको भी नई जानकारी पढ़ने और इसका फाइदा मिले।

Leave a Comment

close button
Social media & sharing icons powered by UltimatelySocial